Skip to main content

Write the names of any four sexually transmitted diseases?


Question: Write the names of any four sexually transmitted diseases?

1.) Sexually transmitted disease Gonorrhea (Gonorrhea) - Bacterial woman named Gonoria rapidly infects. It is the main in sexually transmitted disease which is more than oral sex. There is a problem of pain swelling due to infection. Due to disorder Gonoria it is also called sujac. This throat, eyes, uterus, anal, can spread in the urethra. If Nir aria Gonoria spreads into the blood then the person can see the marks of fever and skin injury.


2.) Transmitted Disease HVP (Human Papillomavirus) - HPV is a sexually transmitted infection that can be both male and female. When the HPV begins to be infected, then the person starts becoming a mass. Apart from this, there is a problem in hand and Pero which causes stress. HPV infections especially due to sexual intercourse, it starts to spread in another skin. Apart from this, the touch of genitalo starts spreading in other skin parts. Many times the male does not know when it is suffering from HPV infection.


3.) Sexually Transmitted Disease Chlamydia (Chlamydia) - Clamedia is one of the sexually transmitted diseases. Clamidia is due to tracomitis bacteria. This bacterial infects around the cervical or the urine hose, anus. Unsecured sex, anal, face sexual intercourse is clamedia. This transition can also be a child from mother. Clamidia, who is to the men, starts irritation in the penis while urging. Apart from this, itching or irritation occurs in the penis.


4.) Herpes - Herpes is a small name for Simplex Virus (HSV). This is the two main parts of the virus, HSV-1 and HSV-2. These two are called sexually transmitted infections. This is a very common STD. HSV-1 mainly causes oral herpes, which is responsible for cold lesions. Apart from this, HSV-1 can also be in the genitals of another person from a person's mouth during oral sex. When this happens, can cause HSV-1. HSV-2 mainly causes herpes in genitalia. Symptoms include blisters or wounds. In the case of genital herpes, these wounds grow on or around the genitals. The person can develop around or around the person in oral herpes.

Comments

Popular posts from this blog

अनुगमन वेग एवं धारा में संबंध स्थापित कीजिए? Anugaman veg evam dhara mein sambndh sthapit kijiye

rbsesolutiom .com सवाल;   अनुगमन वेग एवं धारा में संबंध स्थापित कीजिए? अनुगमन वेग एवं धारा के संबंध को स्थापित करने के लिए हम ओम के नियम के द्वारा अभिव्यक्त कर सकते हैं। अनुगमन वेग उस वेग को कहते हैं, जिसमें की इलेक्ट्रॉन प्राप्त होते हैं, वह मुक्त इलेक्ट्रॉन को तार की लंबाई के अनुदिश उच्च विभाव वाले सिरे की और गति के लिए प्रेरित करता हैं। धारा का मतलब होता है, किसी निश्चित दिशा की और प्रभावित होना। हम अनुगमन वेग और धारा के बीच में संबंध स्थापित करने के लिए ओम के नियम सबसे आधारभूत रूप हैं। जोकि ओम का नियम Vd = uE है जिसमें कि Vd वेग और u पंदार्थ में इलेक्ट्रॉन की गतिशीलता को दर्शाता है। E विद्युत क्षेत्र को दर्शाता है।  

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें? Distance learning se graduation kaise krein

सवाल: डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें? कई बार आपके किसी कार्य करने के कारण आप सही से ग्रेजुएट नहीं कर पाते हैं, तो इसलिए सरकार ने डिस्टेंस लर्निंग ग्रेजुएशन की व्यवस्था की है। जिसमें कि व्यक्ति ऑनलाइन भी पढ़कर ग्रेजुएट हो सकता है, या फिर वह विषय के घर पर ही तैयारी कर कर केवल एग्जाम देने के लिए कॉलेज जाए, तो ऐसे पढ़ाई को और ऐसे ऐसे ग्रेजुएशन को हम डिस्टेंस ग्रेजुएशन या डिस्टेंस लर्निंग कहते हैं। इससे आप B.Ed, l.l.b. जैसे कई बड़ी ग्रेजुएशन को आसानी से कर सकते हैं।

एक समान वृत्तीय गति के लिए अभिकेंद्रीय त्वरण का व्यंजक ज्ञात कीजिए? Ek samaan vrtteey gati ke lie abhikendreey tvaran ka vyanjak gyaat keejie

assignmentpoint.com सवाल:  एक समान वृत्तीय गति के लिए अभिकेंद्रीय त्वरण का व्यंजक ज्ञात कीजिए? यदि कोई वस्तु या समान एक निश्चित वृत्तीय गति कर रहा है, तो उसके अभिकेंद्रीय त्वरण का व्यंजक ज्ञात कर सकते हैं। वह अभिकेंद्रीय त्वरण के लिए अभिकेंद्रीय बल का सूत्र f=mv2/r होता है। जिसमें की m उस द्रव्यमान या पिंड को दर्शाता है v से r की त्रिज्या का वर्तमान पर चल रहे वस्तु के मार्ग है। हम के द्वारा किसी भी वस्तु जो गोलाकार यानी एक वृत्त में गतिशील हैं, तो हम इसके अभी केंद्रीय बल का व्यंजक इसके द्वारा ज्ञात कर सकते हैं।